विज्ञान दिवस पर एक नाटिका

विज्ञान दिवस पर एक नाटिका
अवधि : 
00 hours 14 mins

हर वर्ष 28 फरवरी को राष्‍ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। विज्ञान प्रदर्शनी से लेकर व्‍याख्‍यान तक तरह तरह के कार्यक्रम होते हैं।
उत्‍तरकाशी में अज़ीम प्रेमजी फाउण्‍डेशन के साथियों ने उत्‍तरकाशी के गॉंधी विद्यापीठ  के शिक्षकों तथा विद्यार्थियों के साथ मिलकर एक विज्ञान नाटिका का मंचन किया। इसमें यह बताने की कोशिश की गई है कि आने वाला समय कैसा होगा।
बच्‍चों के बीच विज्ञान की महत्‍वपूर्ण अवधारणाओं को रखने तथा उनमें वैज्ञानिक दृष्टिकोण पैदा करने की दृष्टि से यह नाटिका उपयोगी है।

टिप्पणियाँ

pramodkumar का छायाचित्र

14 मिनट की इस नाटिका में विज्ञान की समझ विकसित करने का सफल प्रयास किया गया है । कक्षा के अन्‍दर बच्‍चों के बीच लगभग उनकी भाषा में आने वाले  समय की चुनौतियों को बहुत ही सहज ढंगसे प्रस्‍तुत किया गया । बच्‍चे और शिक्षिकायें साधारणीकरण की स्थिति में रस लेते दिखे । यह डराती भी है और सचेत भी करती है कि अब भी चेत जायें , तो बहुत कुछ बचाया जा सकता है । कहीं बहुत देर न हो जाये ।

18903 registered users
7392 resources