मजे मजे में दिन की शुरुआत

अवधि : 
00 hours 05 mins

बच्चे और शिक्षक अपनी रचनात्मकता का इस्तेमाल करके प्रात:कालीन सभा ( morning assemblies)  को कैसे दिलचस्प बना सकते हैं। सुनिए अज़ीम प्रेमजी स्‍कूल,टोंक की शिक्षिका ललिता यदुवंशी की जुबानी। 

टोंक में आयोजित एक कार्यशाला के दौरान श्रीपर्णा तम्‍हाणे और राजकिशोर ने ललिता से बातचीत की।

टिप्पणियाँ

nrawal का छायाचित्र

बहुत अच्छा प्रयास है , बच्चों में अभिव्यक्ति की कला को निखारने का एक अच्छा मंच मिल गया है .

18627 registered users
7275 resources