शिक्षक विकास

एक विद्यालय की प्रमुख अपने विद्यालय के एक विशेष मसले का वर्णन कर रही हैं, जो था पठन और लेखन सिखाने में असंगति से संबंधित।  वह बता रही हैं कि इस समस्या के निवारण के लिए किस प्रकार उन्होंने एक पूरी विद्यालयव्यापी पहल का नेतृत्व किया। संबंधित समस्याओं को पहचानने में शिक्षकों को शामिल करने के बाद उन्होंने समन्वित तरीके से कार्यवाही की।

देखें यह शायद आपके विद्यालय के लिए भी उपयोगी हो सकता है।

हिन्दी
हिन्दी

शैक्षिक सरोकारों को समर्पित उत्‍तराखण्‍ड के शिक्षकों तथा नागरिकों के साझा मंच द्वारा प्रकाशित पत्रिका शैक्षिक दख़ल का दसवाँ अंक (जुलाई 2017) ‘स्‍कूल कुछ हटकर’ विषय पर केन्द्रित है। इस अंक में कुछ ऐसे स्‍कूलों से परिचय कराने की कोशिश की गई है, जो आम धारणा के स्‍कूलों से बिलकुल अलग हैं। इस अंक में जो सामग्री है उसका एक अन्‍दाजा इस सूची से लगाया जा सकता है :

अभिमत

25 जुलाई,2017 को जाने-माने वैज्ञानिक प्रोफेसर यश्‍ापाल का निधन हो गया । उसके एक दिन पहले एक अन्‍य वैज्ञानिक प्रोफेसर यू.आर.राव का भी निधन हो गया था। प्रोफेसर यशपाल शिक्षाविद के रूप में खासे पहचाने जाते हैं। 'बस्‍ते का बोझ-कम कैसे हो' पर उनकी अध्‍यक्षता में बनी समिति ने महत्‍वपूर्ण सिफारिशें की थीं। 'राष्‍ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा -2005' की संचालन समिति के भी वे अध्‍यक्ष थे।

जाने-माने वैज्ञानिक और शिक्षाविद प्रोफेसर यशपाल का 24 जुलाई,2017 को नब्‍बे साल की आयु में निधन हो गया। वे अपने तमाम अन्‍य कामों के अलावा स्‍कूलों में बच्‍चों के बस्‍ते के बोझ पर बनी कमेटी की अध्‍यक्षता करने के लिए जाने जाते हैं।

कविता साहित्य की एक विधा है। कविता कवि की सौन्दर्यानुभूति की अभिव्यक्ति है, कवि की व्यथा की अनुभूति है, कवि की आकांक्षाओं- अपेक्षाओं की अभिव्यक्ति है। कविता लिखते समय जिस भाव के साथ लिखी जाती है, यदि पढ़ने वाला भी उसे उसी अर्थ और भाव के साथ उसे समझ सके तो कविता लिखने का उद्देश्य सार्थक हो जाता है।

स्‍कूल खुल चुके हैं। कक्षाएँ लग रही हैं। पर क्‍या उनमें बैठे विद्यार्थी वास्‍तव में खुश हैं? वे क्‍या चाहते हैं, यह जानने की कोशिश आपने कभी की है ? ऐसे ही कुछ सवालों से रूबरू कराती एक एनीमेशन फिल्‍म।

 

उत्‍तराखण्‍ड के दूरदराज और पहाड़ी इलाकों में शासकीय विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक शिक्षा में नए-नए नवाचार कर रहे हैं। वे अपने सीमित-संसाधनों में बच्‍चों को शिक्षित करने के प्रयासों में लगे हुए हैं।

पृष्ठ

13385 registered users
5677 resources