कक्षा संसाधन

मनोहर चमोली  'मनु' शिक्षक हैं। उत्‍तराखण्‍ड के पहाड़ों में रहते हैं। वे बच्‍चों के लिए कहानियाँ भी लिखते हैं। छोटे बच्‍चों के लिए लिखी गई उनकी एक कहानी 'चलता पहाड़' को रूम टू रीड ने चित्रकथा के रूप में प्रकाशित किया है। उसकी पीडीएफ यहाँ से ली जा सकती है।

मुकेश मालवीय शिक्षक हैं। वे बच्‍चों के लिए कहानियाँ भी लिखते हैं। छोटे बच्‍चों के लिए लिखी गई उनकी एक कहानी को रूम टू रीड ने चित्रकथा के रूप में प्रकाशित किया है। उसकी पीडीएफ यहाँ से ली जा सकती है।

गणित को केवल रोचक तरीके से पढ़ाना ही पर्याप्‍त नहीं है। किसी भी अवधारणा को बच्‍चों के सामने किस तरह रखा जा रहा है, वह भी महत्‍वपूर्ण है। हरीश जे थानवी अपनी कक्षा में बच्‍चों के साथ भिन्‍न की अवधारणा पर काम कर रहे हैं।

संज्ञा उपाध्‍याय की तीन बाल कविताएँ इस वीडियो में हैं। ये प्राथमिक कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए उपयोगी हैं। इनमें से एक कविता कुछ इस तरह है :

मकड़ी जाला बुनती है
नहीं किसी की सुनती है

पूरे घर को देखभाल कर
कोने-अँतरे चुनती है

दम साधे जाले में बैठी
गुर शिकार के गुनती है

मुहम्मद तुग़लक चारित्रिक विरोधाभास में जीने वाला एक ऐसा बादशाह था जिसे इतिहासकारों ने उसकी सनकों के लिए खब़्ती करार दिया। जिसने अपनी सनक के कारण राजधानी बदली और ताँबे के सिक्के का मूल्य चाँदी के सिक्के के बराबर कर दिया। लेकिन अपने चारों ओर कट्टर मज़हबी दीवारों से घिरा तुग़लक कुछ और भी था। उसमे मज़हब से परे इंसान की तलाश थी। हिंदू और मुसलमान दोनों उसकी नजर में एक थे। तत्कालीन मानसिकता ने तुग़लक की इस मान्यता को अस्वीकार कर दिया और यही ‘अस्वीकार’ तुग़लक के सिर पर सनकों का भूत बनकर सवार हो गया था।

मध्‍यप्रदेश के सागर जिले के राहतगढ़ ब्लॉक की कल्याणपुर शाला के शिक्षक रामेश्वर प्रसाद लोधी ने पर्यावरण अध्ययन को बच्चों के जीवन के अनुभवों से जोड़ने के लिए एक अनूठा प्रोजेक्ट क्रियान्वित किया है। बच्चे इस प्रोजेक्ट से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपने घरों में भी इस प्रोजेक्ट को तैयार किया है। इससे बच्चों में प्रश्न करने, खोज करने, अवलोकन करने, चर्चा करने, अभिव्यक्ति करने, व्याख्या करने वर्गीकरण करने, विश्लेषण करने और प्रयोग करने के कौशल विकसित हुए

आज जब मैंने कक्षा में प्रवेश किया तो मेरे हाथ में कुछ सामग्री देखकर बच्चे जिज्ञासा से मेरी तरफ देखकर आपस में खुसर-फुसर करने लगे। कि आज शायद हम कुछ नए प्रयोग करेंगे मैम आज बहुत सारा सामान लाई हैं।

बच्‍चों को पुस्‍तकालय में किताबों के प्रति आकर्षित करने के लिए कुछ रोचक गतिविधियों की चर्चा इस वीडियो में की जा रही है। उन शिक्षकों के लिए यह चर्चा उपयोगी है, जो बच्‍चों में पाठ्यपुस्‍तकों के अलावा अन्‍य किताबों के प्रति रुचि उत्‍पन्‍न करना चाहते हैं।

मुम्‍बई के होमी भाभा विज्ञान शिक्षण केन्‍द्र ने कक्षा 3 से 5 के लिए विज्ञान की कक्षाओं हेतु 'हलका-फुलका विज्ञान' शृंखला में पाठ्यपुस्‍तकें विकसित की हैं। इसमें कक्षा के लिए पाठ्यपुस्‍तक, कार्यपुस्‍तक तथा शिक्षक निर्देशिका हैं।

कक्षा 4 के लिए विकसित किताबों की पीडीएफ यहाँ मौजूद है। आप डाउनलोड कर सकते हैं।

 

माध्यमिक से लेकर हायर सेकंडरी स्तर तक उत्तल दर्पण हम पढ़ते हैं जिनमें हम उनके उपयोग भी सीखते हैं। उत्तल दर्पण के उपयोग उनके प्रतिबिम्बों की प्रकृति से निर्धारित होते हैं।प्रस्तुत विडियो में उत्तल दर्पण( कॉन्वेक्स मिरर )के उपयोग को कांसेप्ट के साथ कम समय में बताने का प्रयास किया है। इसमें एनीमेशन और पिक्चर्स के द्वारा सरल भी बनाये जाने की कोशिश की गयी है।

पृष्ठ

18111 registered users
6936 resources