कक्षा 9-12

उत्तल लेंस द्वारा उसके सम्मुख रखी वस्तु और उनके प्रतिबिम्बों की सामान्यत: 6 स्थितियां होती है|इनमें
(1) वस्तु अनंत पर स्थित हो
(2) वस्तु अनंत और 2 F के बीच हो
(3) वस्तु 2 F पर हो
(4) वस्तु 2 F और F के बीच हो
(5) वस्तु F पर हो
(6) वस्तु F और P अर्थात ध्रुव के बीच हो
इन सभी 6 स्थितियों में उत्तल लेंस द्वारा 6 अलग-अलग प्रकार से प्रतिबिम्ब बनते है|इन्हें समझने में बच्चों को काफी मुश्किल आती है|

मुहम्मद तुग़लक चारित्रिक विरोधाभास में जीने वाला एक ऐसा बादशाह था जिसे इतिहासकारों ने उसकी सनकों के लिए खब़्ती करार दिया। जिसने अपनी सनक के कारण राजधानी बदली और ताँबे के सिक्के का मूल्य चाँदी के सिक्के के बराबर कर दिया। लेकिन अपने चारों ओर कट्टर मज़हबी दीवारों से घिरा तुग़लक कुछ और भी था। उसमे मज़हब से परे इंसान की तलाश थी। हिंदू और मुसलमान दोनों उसकी नजर में एक थे। तत्कालीन मानसिकता ने तुग़लक की इस मान्यता को अस्वीकार कर दिया और यही ‘अस्वीकार’ तुग़लक के सिर पर सनकों का भूत बनकर सवार हो गया था।

माध्यमिक से लेकर हायर सेकंडरी स्तर तक उत्तल दर्पण हम पढ़ते हैं जिनमें हम उनके उपयोग भी सीखते हैं। उत्तल दर्पण के उपयोग उनके प्रतिबिम्बों की प्रकृति से निर्धारित होते हैं।प्रस्तुत विडियो में उत्तल दर्पण( कॉन्वेक्स मिरर )के उपयोग को कांसेप्ट के साथ कम समय में बताने का प्रयास किया है। इसमें एनीमेशन और पिक्चर्स के द्वारा सरल भी बनाये जाने की कोशिश की गयी है।

शून्‍य एक सम संख्‍या है, या विषम संख्‍या ?
आईये साथ मिलकर जानने की कोशिश करें, इस वीडियो के माध्‍यम से

शून्‍य एक सम संख्‍या है, या विषम संख्‍या ?
आईये साथ मिलकर जानने की कोशिश करें, इस वीडियो के माध्‍यम से

गणित और विज्ञान में डिजायन और पैटर्न शब्‍द का उपयोग होता है। लेकिन ये शब्‍द हैं क्‍या और इनका अर्थ क्‍या है, यह इस वीडियो में समझाने की कोशिश की गई है।

राष्‍ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्‍त की एक प्रसिद्ध कविता है मनुष्‍यता। इस कविता का पाठ और उसकी व्‍याख्‍या इस आॅडियो में है। यह उच्‍च कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए साहित्‍य से परिचय के क्रम में उपयोग की जा सकती है।

विद्यार्थियों को स्‍ित्रयों में होने वाले मासिक धर्म के बारे में बताने में शिक्षकों को न केवल झिझक होती है,बल्कि दिक्‍कत भी होती है। यह वीडियो एनीमेशन और एक सुन्‍दर कहानी के जरिए  इसे समझाने में मदद करता है।

विपुल कीर्ति शर्मा

विद्युत् धारा के चुम्बकीय प्रभाव की खोज ओरेस्टेड ने की थी। जब भी किसी धारावाही चालक को चुम्बकीय क्षेत्र में रखा जाता है तो उसके आस-पास चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न हो जाता है।एक 9 v बैटरी,चुम्बकीय सुई,कनेक्शन वायर चाहिए बस।अगर धारा का प्रभावी प्रदर्शन करना चाहते है तो परिपथ अनुसार एक बल्ब भी लगा दीजिये।प्रस्तुत वीडियो में चुम्बकीय सुई के एक खास दिशा में घूमने सम्‍बन्‍धी एम्पियर के नियम को भी सरल तरीके से बताने का प्रयास किया है।

पृष्ठ

17659 registered users
6703 resources