विज्ञान शिक्षक

नरेन्‍द्र कर्मा को अकादमिक कार्य करना पसन्‍द है। वे चाहते हैं उनके पास एक झोला हो जिसमें प्रयोग कराने की तमाम सामग्री हो। बस वे स्‍कूल दर स्‍कूल घूमते रहें और शिक्षकों व बच्चों के साथ विज्ञान के कुछ प्रयोग करवाते रहें।

हिन्दी

मध्‍यप्रदेश में विज्ञान शिक्षण को लेकर एक अनोखा प्रयोग हुआ जो शिक्षा जगत में होशंगाबाद विज्ञान शिक्षण कार्यक्रम के नाम से प्रसिद्ध है। इस कार्यक्रम में 3000 से अधिक शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया। ये सभी अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार विज्ञान के श्रेष्‍ठ शिक्षक साबित हुए हैं। ऐसे ही एक शिक्षक हैं उमेश चन्‍द्र चौहान।

हिन्दी
18795 registered users
7333 resources