रजनी

शिक्षक के तौर पर हमको अपनी सोच को विस्तार देने की बहुत जरूरत है ताकि शिक्षक के पेशे की गरिमा को सम्‍भालते हुए अपने हिस्से की जिम्मेदारियों को ठीक से पूरा किया जा सके। कितने ही प्रशिक्षण हों, डाक्यूमेंट पढ़ा दिए जाएँ एक शिक्षक जब तक अपने मन से अपने काम से नहीं जुड़ेगा तब तक कुछ नहीं हो सकता। बच्चों को स्पेस देना, उन्हें गलतियाँ करते देने की छूट देना, उन्हें बीच में न टोकना उनके विकास का हिस्सा है। कोई बच्चा जब आपसे बहस करे, सवाल करे तो यह बहुत सुन्‍दर अनुभव होता है।

हिन्दी
17939 registered users
6761 resources