मोरी

ऐसी दूरस्थ एवं विकट परिस्थितियों में भी शिक्षक इतना कुछ कर पा रहे हैं वो अपने आप में एक मिसाल है। यह एक राजकीय स्कूल है जहाँ शिक्षक पूरी निष्ठा के साथ अपने काम में लगे हुए हैं और यहाँ की चमक बच्चों में लगातार दिखाई दे रही है। राजकीय शिक्षा को लेकर जो भ्रम समाज में बने हुए हैं यह उनको आईना दिखाती है। ऐसे शिक्षक जो अपने शिक्षण, बच्चों के विकास के लिए निरन्‍तर प्रयासरत हैं, पयार्वरण को शिक्षण का एक मुख्य अंग समझते हैं, समुदाय को स्कूल से जोड़ते हैं वे निश्चित ही एक दिन समाज में शिक्षा को लेकर व्याप्त परिदृश्य को एक नया आयाम दे पाएँगे और शिक्षा को लेकर बनी भ्रम की स्थिति को भी दूर कर पाएँगे।

हिन्दी
18784 registered users
7333 resources