पाठशाला

पाठशाला-भीतर और बाहर :  अंक 3  अगस्‍त 2019 में

 

सम्‍पादकीय

सामयिक : राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति (प्रारूप) 2019

परिप्रेक्ष्‍य

आचार्य से गुरु, उस्‍ताद से पीर * सी.एन.सुब्रह्मण्‍यम

अज़ीम प्रेमजी विश्‍व‍विद्यालय की शै‍क्षणिक पत्रिका 'पाठशाला भीतर और बाहर' अंक 2 फरवरी, 2019 में

 

विमर्श

फ़ेल न करने की नीति की समाप्ति : बयानबाज़ी बनाम वास्‍तविकता * दिव्‍या दुबे व मधु कुशवाहा

अंग्रेजी का ‘अलौकिक साम्राज्‍य’  * अभय कुमार दुबे

अज़ीम प्रेमजी विश्‍वविद्यालय अँग्रेजी में तीन पत्रिकाएँ प्रकाशित करता है। अब शिक्षा के लिए हिन्‍दी में भी एक पत्रिका ‘पाठशाला - भीतर और बाहर’ का प्रकाशन भी आरम्‍भ किया है। पत्रिका का प्रवेशांक आ गया है। इसमें विमर्श,परिप्रेक्ष्‍य,शिक्षण शास्‍त्र, कक्षा अनुभव,साक्षात्‍कार,पुस्‍तक चर्चा,शोध अध्‍ययन तथा संवाद स्‍तम्‍भों के अन्‍तर्गत उपयोगी शैक्षिक सामग्री है। पत्रिका की प्रति के लिए पत्रिका में दिए गए पते पर सम्‍पर्क करें। यहाँ पत्रिका की पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

 

अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय ‘पाठशाला – भीतर-बाहर’  नाम से शिक्षा पर केन्द्रित एक हिन्‍दी पत्रिका का प्रकाशन आरम्‍भ करने जा रहा है। इसका मुख्य मकसद है हिन्दी भाषा में शैक्षिक विमर्श समृद्ध हो। यह पत्रिका का लक्ष्‍य है कि वह जमीनी स्तर पर शिक्षा में काम करने वाले विभिन्न लोगों के अपने अनुभवों और उनके प्रश्नों के लिए संवाद और विवेचना का मंच बने। पत्रिका का पहला अंक जुलाई, 2018 में आने की सम्‍भावना है।

18450 registered users
7211 resources