चित्रकथा

त्रिपुरारी शर्मा वरिष्‍ठ रंगकर्मी हैं। वे नेशनल स्‍कूल ऑफ ड्रामा में प्राध्‍यापक हैं। उन्‍होंने बच्‍चों के लिए कई नाटकों का निर्देशन किया है। वे बच्‍चों के लिए कहानियाँ भी लिखती हैं। उनकी एक कहानी को रूमटूरीड ने चित्रकथा के रूप में प्रकाशित किया है। यह कहानी है भभो भैंस। इसकी पीडीएफ यहॉं से डाउनलोड की जा सकती है।

मनोहर चमोली  'मनु' शिक्षक हैं। उत्‍तराखण्‍ड के पहाड़ों में रहते हैं। वे बच्‍चों के लिए कहानियाँ भी लिखते हैं। छोटे बच्‍चों के लिए लिखी गई उनकी एक कहानी 'चलता पहाड़' को रूम टू रीड ने चित्रकथा के रूप में प्रकाशित किया है। उसकी पीडीएफ यहाँ से ली जा सकती है।

क्‍या बिल्‍ली और नन्‍हा चूज़ा कभी अच्‍छे दोस्‍त हो सकते हैं। इस कहानी में तो ऐसा ही है। पढ़ने का अभ्‍यास कर रहे बच्‍चों के लिए एकलव्‍य द्वारा प्रकाशित एक उम्‍दा चित्रकथा।

पढ़ने के अभ्‍यास के लिए एक रोचक कहानी। किताब में बने रोचक चित्रों की मदद से बच्‍चों के बीच कहानी लिखने की गतिविधि भी करवाई जा सकती है। इस कहानी का अंत अन्‍य किस तरीके से हो सकता है...यह अभ्‍यास भी करवाया जा सकता है।

आचार्य विष्‍णुकांत पाण्‍डेय की कहानी का राजेश उत्‍साही द्वारा किया गया एक रोचक चित्रकथा रूपान्‍तरण। पढ़ना शुरू कर चुके बच्‍चों में और पढ़ने की ललक बनाए रखने में मदद करती किताब। रंजीत बालमुचु के चित्रों से सजी इस किताब को प्रकाशित किया है एकलव्‍य ने।

प्राथमिक कक्षाओं  में  बच्‍चों में उनकी अपनी अभिव्‍यक्ति को बढ़ावा देने के लिए तरह-तरह के प्रयास किए जाने की आवश्‍यकता होती है। चित्र और उनसे बनने वाली कहानियाँ इसका एक तरीका हैं। इसे सीमित संसाधनों में भी कैसे बेहतर ढंग से इस्‍तेमाल किया जा सकता है, इसके लिए शिक्षक को नवाचारी होना पड़ेगा।

मध्‍यप्रदेश में शिक्षा के क्षेत्र में एकलव्‍य संस्‍था पिछले 32 वर्षों से कार्यरत है। स्‍कूली पाठ्यक्रम के लिए पाठ्यपुस्‍तकें विकसित करने के अलावा एकलव्‍य ने बच्‍चों के लिए साहित्‍य प्रकाशन का भी महत्‍वपूर्ण काम किया है। संस्‍था द्वारा प्रकाशित मासिक बाल विज्ञान पत्रिका 'चकमक' से सब परिचित ही हैं। बच्‍चों के लिए प्रकाशित कुछ साहित्‍य अब इंटरनेट पर भी निशुल्‍क उपलब्‍ध है। एकलव्‍य ने रूसी लेखक पी.सुतेयेव की चित्रकथाओं की सीरिज प्रकाशित की है। इस सीरिज की पहली चित्रकथा है 'चूहे को मिली पेंसिल' । पढ़ना सीख रहे बच्‍चों के बीच इस का प्रयोग

17292 registered users
6659 resources