गरूड़

इस बीच स्कूल मैनेजमेण्ट कमेटी के अध्यक्ष ने एक प्रस्ताव रखा जिसे सभी ने सराहा। क्या था यह प्रस्ताव? प्रस्ताव रखा गया था और मुझे लग रहा था क्या ऐसा हो सकता है? सरकारी शिक्षा व्यवस्था के प्रति जन सामान्य का नजरिया बदल रहा है यह कहने की जरूरत नहीं थी क्योंकि यह सब होता हुआ दिख रहा था। प्रस्ताव था बच्चों द्वारा स्कूल परिसर को स्वच्छ रखने के सन्दर्भ में। बच्चों के साथ यदि बारी-बारी से दो-दो की संख्या में अभिभावक भी रोजाना प्रार्थना सत्र में शामिल रहें और साथ ही स्वच्छता में भी।

हिन्दी
18784 registered users
7333 resources