खिलौने

अरविन्‍द गुप्‍ता ने विज्ञान की अवधारणाओं को समझाने के लिए कबाड़ से तमाम तरह के खिलौने और प्रयोग बनाए हैं। इस पर उनकी कई किताबें हैं। उनमें से ही एक यह है। इसमें पचास खिलौने/प्रयोग दिए गए हैं।

विज्ञान के लोकप्रियकरण के सन्‍दर्भ में अरविन्‍द गुप्‍ता ने जितना काम किया है, शायद ही किसी ओर ने किया हो। किताबें,वीडियो,अनुवाद और फिल्‍में हर विधा में उन्‍होंने ऐसी तमाम सामग्री बनाई है, जिसका उपयोग वर्षों तक होता रहेगा। एकलव्‍य से प्रकाशित उनकी किताब 'खिलौनाें का खजाना' भी इनमें से एक है। हिन्‍दी-अँग्रेजी( दो भाषाओं में एक साथ) में प्रकाशित इस किताब की लगभग दो लाख प्रतियॉं छप चुकी हैं। खिलौनों का खजाना में कबाड़ की तमाम चीजों से विज्ञान के सरल प्रयोग करने की विधियाँ संकलित हैं। इनमें ज्‍यादातर प्रयोग या खिलौने कागज से बनाने के हैं।

विज्ञान के लोकप्रियकरण के सन्‍दर्भ में अरविन्‍द गुप्‍ता ने जितना काम किया है, शायद ही किसी ओर ने किया हो। किताबें,वीडियो,अनुवाद और फिल्‍में हर विधा में उन्‍होंने ऐसी तमाम सामग्री बनाई है, जिसका उपयोग वर्षों तक होता रहेगा। एकलव्‍य से प्रकाशित उनकी किताब 'खिलौनों का बस्‍ता' भी इनमें से एक है। हिन्‍दी-अँग्रेजी( दो भाषाओं में एक साथ) में प्रकाशित इस किताब की लगभग दो लाख प्रतियॉं छप चुकी हैं। खिलौनों का बस्‍ता में कबाड़ की तमाम चीजों से विज्ञान के सरल प्रयोग करने की विधियाँ संकलित हैं।

बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी अरविन्‍द गुप्ता देश के प्रसिद्ध खिलौना अन्वेषक एवं विज्ञान संचारक हैं। आप तीन दशकों से विज्ञान जागरूकता को लेकर कार्य करते आ रहे हैं। उन्होंने बच्चों में खिलौनों के माध्यम से विज्ञान संचार का अद्भुत कार्य किया है। हिन्दी और अँग्रेजी के अलावा आपने देश की कई क्षेत्रीय भाषाओं में विज्ञान आधारित पुस्तकों का लेखन तथा अनुवाद किया है। विज्ञान के प्रति आपके समर्पण तथा सेवा के लिए कई राष्ट्रीय एवं अन्‍तर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। अरविन्‍द गुप्ता के साथ मनीष श्रीवास्तव की बातचीत।

हिन्दी
18799 registered users
7333 resources