किशोर कुमार माली

प्रत्येक विद्यार्थी की सीखने की गति विशिष्‍ट होती है। सिखाने का प्रत्येक तरीका प्रत्येक विद्यार्थी के लिए उपयुक्त हो यह आवश्‍यक नहीं है। सामान्यतया ऐसी शिक्षण तकनीकें व शिक्षण अधिगम सामग्री काम में ली जाती है जिससे सीखने वालों का बड़ा वर्ग सीख जाए। लेकिन कई बार ऐसा नहीं भी होता। अतः विविध तरीकों से शिक्षण कराने की आवश्‍यकता सदैव रहती है। मैंने भी कक्षा शिक्षण दौरान इन बातों का ध्यान रखा। सीखने सिखाने की परिस्थितियों सहित कई कारक उपलब्धि स्तर को प्रभावित करते हैं।

हिन्दी
18784 registered users
7333 resources