लर्निंग कर्व : स्‍कूली शिक्षा में आकलन पर विशेष अंक

Description: 
आकलन अब सीखने की प्रक्रिया का बहुत ही महत्त्वपूर्ण भाग बन चुका है। यह अच्छी बात है कि आकलन की प्रक्रिया में जबरदस्त बदलाव हुआ है और आकलन को अन्ततः विद्यार्थी की अपनी क्षमताओं के साथ जोड़ा गया है, जो भिन्न-भिन्न हो सकती हैं। सबके लिए एक से, तीर-तुक्के और अनुमान पर टिके तरीकों को त्याग दिया गया है और उनकी जगह आकलन के ज्यादा समझदारी भरे स्वरूपों को अपनाया गया है। अब निर्माणात्मक व योगात्मक आकलनों के दोहरे लाभ हमारे सामने हैं जिससे आकलन की समग्र प्रक्रिया सहभागिता-आधारित और पारदर्शी हो जाती है। सतत और व्यापक मूल्यांकन (सी.सी.ई.) तथा निर्माणात्मक और योगात्मक आकलनों की व्यवस्था को लागू करके केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सी.बी.एस.ई.) और अधिकांश अन्य परीक्षा मण्डलों ने बड़ी सफलता के साथ ज्यादा से ज्यादा बच्चों को इसके दायरे में शामिल कर लिया है। इस अंक में ऐसे कई लेख हैं जिनमें लेखकों ने मिश्रित क्षमताओं वाले समूह में सबके सम्मिलित ढंग से सीखने के लक्ष्य के साथ पढ़ाने के अपने व्यक्तिगत अनुभवों को साझा किया है। ऐसी शिक्षण कार्यविधियों ने (जो अब शिक्षण की तर्कसंगत पद्धति लगती हैं) जो बच्चों को अलग-अलग व्यक्ति के रूप में देखती हैं और कक्षा की समृद्धि के लिए हर बच्चे के योगदान को स्वीकार करती हैं, यह सुनिश्चित किया है कि हर बच्चा विश्वसनीय ढंग से अपनी गति से सीखे जिससे ‘अवलोकन, विश्लेषण, समीक्षात्मक सोच और सहयोगपूर्ण कार्यप्रणाली के वास्तविक जीवन सम्बन्धी कौशलों को’ हासिल करना निश्चित हो सके। पूरा अंक तीन खण्‍डों में बँटा है।

 

इनमें क्‍या है इसकी एक झलक यहाँ देखी जा सकती है –

खण्‍ड अ : परिप्रेक्ष्‍य

आकलन और सशक्तिकरण * इन्दिरा विजयसिम्हा

सीखने के लिए आकलन * मेघना एन.कुमार,विष्णुतीर्थ अग्निहो़त्री एवं राहुल वेनुराज

आकलन: यह चीज क्या है ? * सुजाता राव

आकलन,मापन तथा मूल्यांकन  * भवानी रघुनन्दन

आकलन,सीखना और पाठ्यक्रम की सीढ़ी * रजनी दिव्य कुमार

सोचने की बात * गीता भल्ला

निष्पक्षता के चश्‍मे से * गुरबचन सिंह एवं निशा बुटोलिया

शैक्षणिक आकलन और सुधार के प्रयास * जी.शंकर

स्कूली षिक्षा में आकलन: तब और अब * प्रेम लता भट्ट

आकलन का बदलता नजरिया * के.आर.शर्मा

 

खण्ड ब: कक्षा में

यह भी आकलन है.... * एस.इन्दुमति एवं नीरजा राघवन

आपकी कक्षा में अव्वल कौन है ? * वेंकटेश ओंकार

बिना अंकों वाला रिपोर्ट कार्ड * उमाशंकर पेरिओडी

शिक्षक मूल्यांकन: एक विद्यार्थी का नजरिया * ऐश्‍वर्या किरित

परीक्षा की घड़ी * प्रेमा रंगाचारी

आकलन: टीम खेल  * प्रेरणा शिवपुरी

आकलन: बच्चे के लिए इसका अर्थ है? * अनानास कुमार

भूगोल में आकलन के उपकरण बनाने के लिए कुछ सुझाव  * तपस्या साहा

रचनात्मक एवं योगात्मक आकलन * सिन्धु श्रीदेवी

उपयोगकर्त्ता के लिए मैत्रीपूर्ण सी.सी.ई. * शोभना मालिनी वर्गीज

सी.सी.ई. पर कार्यशाला-एक विचार * महुआ

 

खण्ड स: व्यापक परिदृश्‍य  

समग्र या छिद्रमयी शिक्षा * शरण्या सुधाकर,सोनल राजा एवं विजयलक्ष्मी अय्यर

निदानात्मक आकलन बनाम सीखने की पूर्व-प्रक्रिया * क्षमा चक्रवर्ती

मुख्‍यधारा की स्कूली व्यवस्थाओं में नवाचारी आकलन की चुनौतियाँ * उमा हरिकुमार

बडे़ पैमाने के निदानात्मक आकलन: गुजरात अनुभव * वैजयन्ती शंकर

असर का जन्म * रुक्मिणी बनर्जी

विद्या वनम आदिवासी बच्चों का एक नवाचारी स्कूल: एक आकलन * मिलिन्द ब्राह्मे एवं एम.सुरेश बाबू

अभिभावक की बात * सेल्वी राजेन्द्रन

अभिभावक की बात * नित्या गुरुमूर्ति

आकलन: कार्यक्षेत्र से टिप्पणियाँ * रुद्रेश एस.

‘लर्निंग गारण्टी प्रोग्राम’  से जो सीखा * ऋषिकेश  

सीखने वालों का आकलन: आन्ध्र प्रदेश  स्कूल चुनाव अध्ययन  * श्रीनिवासुलु बारीगेला

लर्निंग कर्व : स्‍कूली शिक्षा में आकलन पर विशेष अंक केलिए इस लिंक पर आए

 

19179 registered users
7446 resources