लर्निंग कर्व हिन्‍दी अंक 13 : अक्‍टूबर, 2016

लर्निंग कर्व (हिन्‍दी) अंक 13 : अक्‍टूबर, 2016 ‘भारत में सार्वजनिक शिक्षा तंत्र’ पर केन्द्रित है। उसमें शामिल लेखों की सूची यहाँ है :

  1. सार्वजनिक शिक्षा क्‍या है ? * अनुराग बेहार
  2. ब्रांड : सरकारी स्‍कूल * दिलीप रांजेकर
  3. भारत में मानव विकास को समझना * अमरजीत सिन्‍हा
  4. मैं अपनी आजादी चाहता हूँ : मुझे रास्‍तों का नक्‍शा मत बताओ ! * रोहित धनकर
  5. शिक्षा के लिए प्रतिबद्धता : क्‍या हम असफल हो रहे हैं ? * हृदय कांत दीवान
  6. सामाजिक स्‍तरीकरण पर शिक्षा के निजीकरण के प्रभाव * अमन मदान
  7. क्‍या निजी स्‍कूल वास्‍तव में बच्‍चों के बेहतर अधिगम-परिणाम सुनिश्चित करते हैं ? * डी.डी. करोपाडी
  8. सार्वजनिक शिक्षा प्रणाली के लिए आर.टी.ई अधिनियम का महत्‍व * बी.एस. ऋषिकेश
  9. सार्वजनिक न्‍यूनताओं के लिए सार्वजनिक समाधानों की आकांक्षा करना * मानबी मजूमदार और कुमार राणा
  10. शिक्षा के साथ रोमांस * शरद चन्‍द्र बेहार
  11. जमीनी स्‍तर से अवलोकन * एस. गिरिधर
  12. सरकारी स्‍कूल प्रणाली के साथ हमारे अनुभव * आनन्‍द स्‍वामीनाथन
  13. निजी और सार्वजनिक पर कुछ असम्‍बद्ध विचार * अर्जुन जयदेव
  14. वरदेनहल्‍ली स्‍कूल के बच्‍चों के साथ कुछ अनुभव * कमला मुकुन्‍दा
  15. हमारी शिक्षा व्‍यवस्‍था में शिक्षकों की स्थिति * विमला रामचन्‍द्रन
  16. स्‍वैच्छिक शिक्षक मंच : एक यात्रा का अनुभव (राजस्‍थान) * अभिषेक सिंह राठौड़
  17. स्‍कूल तेरे कितने नाम * राहुल मुखोपाध्‍याय और अर्चना मेहेंदले
  18. शिक्षक अधिगम समुदाय : सुरपुर से प्राप्‍त अन्‍तर्दृष्टि * उमाशंकर पेरिओडी
  19. शिक्षा तंत्र में संवाद और समन्‍वय : अनंत गंगोला और जगमोहन सिंह कठैत
  20. राजस्‍थान सरकार के स्‍कूलों के लिए कार्यपुस्तिकाओं के निमार्ण का अनुभव : आँचल चोमल
19294 registered users
7708 resources