परीक्षा को स्कूल में होना चाहिए या नहीं ?

By sanjayedn | जनवरी 5, 2015

परीक्षा छात्रों में डर पैदा करता है । अाप क्या सोचते हैं ।

editor_hi का छायाचित्र

संजय जी इसके पहले यह सवाल भी पूछा जाना चाहिए कि परीक्षा का उद्देश्‍य क्‍या है ?

sanjayedn का छायाचित्र

अाजकल परीक्षा जो स्कूल में लिए जाते हैं उसे तो अाप जानते होंगे उसके क्या उद्देश्य हैं लेकिन मेरा सवाल है कि क्या उसी उद्देश्य केलिए परीक्षा का स्कूल में होना जरूरी है ?

editor_hi का छायाचित्र

परीक्षा का मतलब है बच्‍चे ने क्‍या सीखा इसका आकलन करना। आप जानते हैं कि आजकल सतत और समग्र आकलन किए जाने पर जोर दिया जाता है। अगर यह सही तरीके से किया जाए तो इस प्रचलित परीक्षा से छुटकारा पाया जाता जा सकता है।

vijayprakashbadola का छायाचित्र

विद्याल मे परीक्षा होनी चाहिए.इस हेतु छात्रों को विश्वास मे लेने आवश्यकता हे,छात्रों को इसके महत्वो को बताकर उत्साहित करना चाहेये तो परीक्षा लेना फायदेमंद होता हे

anil parmar का छायाचित्र

इन्सानी एक प्रकृति रही है कि वह अपने कार्य को चेक करता है । खेल में बिना चेक किये ही सिलेक्ट हो जाता तो ? बिना चेक किये ही दवाईया दी जाती तो ? इस बात को इन्सान बहुत बखुबी जानता है । इन्सान ही नहीं प्राणीयो में भी यही प्रकृत्ति देखने को मिलती है वह अपना खाना चेक करके ही खाते है । इन्सानने शिक्षा रूपी एक शिक्षा व्यवस्था खडी कि है और ये सदियो से चली आ रही है एक व्यवस्था बिना चेक किये कैसे चल सकती है यह बडी समस्या कहलायेगी यदि हम उसे चेक ही नही करते । शिक्षा के कई अंग है उसमें छात्र महत्त्वपूर्ण अंग है और उस अंग का परीक्षण ही नहीं किया जाये और एसे ही चलाया जाये तो मालूम कैसे चलेगा कि सुधार कितना हुआ, भूल कहाँ पर हुई यदि हमें मालूम ही नहीं होगा तो हम आयोजन कैसे कर पायेंगे एसे देखे तो बिना चेक किये शायद काफी समस्याए हमारे सामने आ सकती है शायद शिक्षा खडी भी न हो सके । बाह्य चिजो को हम निरीक्षण कर के भी चेक कर सकते है लेकिन अमूर्त चिजो का मूल्यांकन कैसे कर सकेंगे जो कि वह हमें दिखाी नही देती इसके लिए परीक्षा ही हमारे लिए विकल्प रहता है । हमारे पास इससे बेहतरीन विकल्प नही है । सार्वत्रिक मूल्यांकन किया जाता है उसमें भी इसी पद्धति का प्रयोग किया जाता है । तो सवाल यह रहता है कि परीक्षा से हम उब क्यो गये है । फिर भी हम परीक्षा को निकाल क्यो नहीं पाये है ? परीक्षा समस्या नहीं है लेकिन परीक्षा के बाद मिली माहिती का विश्लेषण जिस तरीके से करना चाहिए उस तरीके से नहीं हो पा रहा है । परीक्षा शिक्षा व्यवस्था के संदर्भ में होनी चाहिए थी लेकिन आज परीक्षा छात्र कि प्रेरणा है या तो छात्र को नापने कि प्रक्रिया है । हमें यह सोचना चाहिए कि किसी व्यक्ति का मापन एक परीक्षा कदापि नहीं कर सकती । हा हमारी प्रक्रिया की कमी या सही बात जाना जा सकता है लेकिन व्यक्ति को हीं पहचाना जाता । व्यक्ति का तो क्या है वह आज विफल है तो कल सफल भी हो सकता है । तो हमें छात्रो के लिए नहीं लेकिन शिक्षा प्रक्रिया में सुधार हेतु परीक्षा को आयोजित करने की प्रति जागृत होना चाहिए ।

18586 registered users
7253 resources